Gadgets

RAM और ROM में क्या अंतर हैं? | Difference between RAM and ROM in Hindi

RAM और ROM में क्या अंतर हैं
Written by eazyhindiofficial

RAM और ROM में क्या अंतर हैं?

Hello friends, अगर आप computer का इस्तेमाल करता हैं तो आपने RAM और ROM इन दोनों के बारे में जरूर सुना होगा पर क्या आप जानते हैंं कि RAM और ROM में क्या अंतर हैं? बहुत लोग इन दोनों के बीच क्या अंतर होता हैं इसके बारे में नहीं जानते हैंं और वह लोग इन दोनों को एक ही समझते हैंं. पर इसमें कुछ differences होते हैंं जिनके बारे में आज हम इस article में बात करेंगे.

अगर आप भी जानना चाहते हैंं कि RAM और ROM में क्या अंतर होता हैं (Difference between RAM and ROM in Hindi) तो इस article को आप पूरा जरूर पढ़े, यहां पर हम आपको RAM क्या होता हैंROM क्या होता हैं इसके बारे में पूरी detail में बताने वाले हैंं. इस article को पढ़ने के बाद आपको RAM और ROM के बीच जो भी confusion था वह दूर हो जाएगा.

Computer में दो तरह की memory होती हैंं, एक तो Primary Memory होती हैं और दूसरी Secondary Memory होती हैं. जिसे हम RAM और ROM के नाम से भी जानते हैंं. यह दोनों कंप्यूटर की मेमोरी ही हैं पर इसका काम करने का तरीका थोड़ा सा अलग हैं. दोनों मेमोरी अलग-अलग कार्यो के लिए होती हैंं.

सबसे पहले हम आपको RAM क्या होता हैं इसके बारे में बता दें और फिर हम ROM के बारे में बात करेंगे. तो चलिए शुरू करते हैंं.

RAM और ROM मैं क्या अंतर हैं | What is the difference between RAM and ROM

  • RAM का full form Random Access Memory हैं और ROM का full form Read Only Memory हैं.
  • आप बिना power के भी ROM में data save कर सकते हैंं जबकि RAM में data save करने के लिए power supply की जरूरत पड़ती हैं.
  • कंप्यूटर बंद करने के बाद RAM में stored data delete हो जाता हैं जबकि ROM में store हुआ data delete नहीं होता हैं.
  • ROM जितना  तेजी से डाटा ट्रांसफर कर सकता हैं उससे कई गुना ज्यादा तेजी से RAM में डाटा का transmission होता हैं.
  • ROM का उपयोग permanent storage के लिए किया जाता हैं और RAM का उपयोग temporary storage के लिए किया जाता हैं.
  • CPU के द्वारा RAM का data को access किया जा सकता हैं पर ROM के डाटा को नहीं किया जा सकता.
  • RAM को Volatile Memory भी कहा जाता हैं क्योकि इसमे डाटा कुछ समय के लिए ही सेव रहता हैं जबकि ROM को Non-Volatile Memory कहते हैं क्योकि इसमे डाटा हमेशा के लिए सेव होता हैं, जब तक आप manually उसे डिलीट नहीं करते तब तक वह डाटा ROM में सेव रहेगा.
BASIS FOR COMPARISON RAM ROM
Basic: RAM is a Read/Write memory. ROM is read only memory.
useful: RAM का उपयोग CPU द्वारा संसाधित डेटा को अस्थायी रूप से संग्रहीत करने के लिए किया जाता है। ROM कंप्यूटर पर बूटस्ट्रैप के दौरान आवश्यक निर्देशों को संग्रहीत करता है।
Volatility: RAM is a volatile memory. ROM is a nonvolatile memory.
Full Forms: यादृच्छिक अभिगम स्मृति | Random Access Memory. केवलं पठन्तु स्मृति। Read Only Memory.
Changes: हम RAM के Data को modified कर सकते है। हम ROM के डेटा को modified नहीं कर सकते है।
Storage Capacity: RAM के डेटा स्टोरेज कैपसिटी न्यूनतम 64 MB से लेकर अधिकतम 16 GB से भी ज्यादा होती है। ROM की स्टोरेज RAM से तुलनात्मक रूप से छोटी है।
Rates: अधिकांश RAM की मुल्य ROM से अधिक होती है. ज्यादातर ROM की मूल्य RAM से सस्ती होती है।
Types: RAM के दो प्रकार है Dynamic RAM और Static RAM ROM के प्रकार – PROM, EPROM, EEPROM.

तो यह थे कुछ differences जिनके बारे में आपको जानना चाहिए. जब हम कंप्यूटर लेने जाते हैंं तो हम अवश्य यह पूछते हैंं कि इस कंप्यूटर में ROM कितनी हैं और RAM कितनी हैं. आजकल के कंप्यूटर में तो आपको एक 1 TB तक का Hard Disk आसानी से मिलता हैं और आप जितने GB की चाहे उतने GB की RAM computer में रख सकते हैंं मतलब की 4GB से लेकर 16GB, 32GB, यह आपके ऊपर निर्भर करता हैं कि आप कितने GB तक की RAM रखना चाहते हैंं.

आपके कंप्यूटर में RAM जितनी ज्यादा होगी उतना ही तेज आपका कंप्यूटर चलेगा, पर केवल RAM ही नहीं, इसके अलावा भी बहुत सारे Hardware होते हैंं जो कि computer की speed को affect करते हैंं.

RAM क्या हैं

RAM का पूरा नाम Random Access Memory होता हैं और इसे कंप्यूटर की अस्थाई मेमोरी कहते हैंं. आप जब कंप्यूटर चलाते हो तब आप जो भी कार्य करते हैंं वह इस memory में store रहता हैं और जब आप कंप्यूटर बंद कर देते हैंं तो इस memory में जो भी data store हुआ था वह सब delete हो जाता हैं.

Computer को restart या फिर shut down करते ही RAM में stored data इसलिए डिलीट हो जाता हैं की RAM में सारा data electrically transistor में सेव होता हैं, अब चुकी पॉवर मिलना बांध हो गया हैं तो वह डाटा भी remove हो जायेगा. आप जब चाहे तब अपने कंप्यूटर या फिर लैपटॉप में RAM में बदलाव कर सकते हैं मतलब की उसे upgrade कर सकते हैं.

अगर आप कंप्यूटर को बंद कर देते हैंं तो इस मेमोरी में जो भी डाटा स्टोर था वह सब delete हो जाएगा और जब आप दोबारा कंप्यूटर को चालू करोगे और कुछ कम करना शुरू करोगे तो फिरसे डाटा RAM में सेव होना शुरू हो जायेगा और कंप्यूटर को बांध करने पर वापस डिलीट हो जायेगा और यह process ऐसे ही चलता रहेगा.

ROM क्या हैं

ROM का पूरा नाम Read Only Memory होता हैं और इसे computer की स्थाई मेमोरी कहते हैंं. अगर आपने एक बार इस मेमोरी में डाटा सेव कर दिया तो जब तक आप खुद से उस डाटा को डिलीट नहीं करते तब तक वो डाटा इस मेमोरी में सेव रहता हैं. अगर आप कंप्यूटर बंद भी कर देते हैंं तब भी ROM me stored data वैसा का वैसा ही रहता हैं, वह अपने आप डिलीट नहीं होता हैं.

Computer को start करने के लिए कुछ files की भी जरूरत पड़ती हैं जोकि ROM में संग्रहित होती हैं और कंप्यूटर में कुछ drivers होते हैंं जिसकी मदद से कुछ hardware चलते हैंं तो उनकी commands भी इसी memory में store रहती हैं.

तो अब आपको RAM क्या होता हैं और ROM क्या होता हैं इसके बारे में पता चल गया होगा, तो चलिए अब हम RAM और ROM  में क्या अंतर हैं इसके बारे में जानते हैंं.

सारांश:

तो अब आपको RAM और ROM में क्या अंतर हैं उसके बारे में जो सवाल थे उसके जवाब आपको मिल गए होंगे. अगर इन दोनों में से एक भी मेमोरी कंप्यूटर में नहीं होगी तो कंप्यूटर work नहीं करेगा, कंप्यूटर सही से work करें इसके लिए इन दोनों memories का होना जरूरी हैं ,दोनों का अपना अलग-अलग काम होता हैं.

कंप्यूटर में जोभी Operating System (OS) installed हैं और जो भी जरूरी files पर वह सभी Read Only Memory यानी कि ROM में stored होते हैंं और जब आप किसी program या software को चलाते हैंं तब उसकी कुछ files RAM में store हो जाती हैं और जब आप उस program को close कर देते हैंं तो वह files RAM से delete हो जाती हैं और जब आपका computer बंद होता हैं तो सारा data RAM से delete हो जायेगा.

अगर आपको अभी भी RAM और ROM में अंतर क्या होता हैं (Difference between RAM and ROM in Hindi) इससे जुड़े कोई सवाल हैं तो हमें कमेंट करके जरूर बताइएगा. उम्आमीद हैं की आपको आर्टिकल पसंद आया होगा.

About the author

eazyhindiofficial

Leave a Comment